The Golden Talk
by Anehas Shashwat

- Advertisement -

- Advertisement -

बहुत पहले मेरे बचपने में दादी ने कोई मनौती मानी थी और वो पूरी हो गयी रही होगी तो पूरा परिवार तीर्थ यात्रा पर गया था| मै काफी छोटा था लेकिन मुझे पूरी तरह याद है वो यात्रा आनंददायक होने के साथ साथ खासी तकलीफदेह भी थी| रुकने के लिए सिर्फ धर्मशालाएं थीं या फिर रिश्तेदारों के मकान और खाने के लिए कच्चे…
Read More...