- Advertisement -

- Advertisement -

Browsing Category

समाज

कुदरत का निजाम भी अजीब है, कोई चीज़ कितनी भी सुन्दर क्यों न हो कालान्तर में कुरूप हो जाती है। कुछ इसी तरह से ये भी है कि सिद्धान्त ज़्यादातर लोगों के कल्याण के लिए बेहतरीन बनाए जाते हैं लेकिन लागू होने के क्रम में वे बद से बदतरीन होते जाते हैं। उसका कारण शायद ये होता हो कि सिद्धान्त किसी भी व्यक्ति या…
Read More...