- Advertisement -

- Advertisement -

श्रीमती गांधी और श्रीमती गांधी का फर्क

0 1,002

 

Mrs Gandhi

Mrs. Gandhi & Mrs. Gandhi

Mrs. Indira Gandhi and Mrs. Sonia Gandhi have many similarities. Both are of the same clan, both of them enjoyed power for a long time and if they let the exceptions go, they ruled the law as per the total. And the biggest thing is that both of them have a special contribution in making India prosperous. But there is also a big difference between both. Indira Gandhi came to politics after full training and time showed Sonia the path of politics. Nehru ji took special interest in the upbringing of his only daughter Indira, but at that time Nehru’s future was not decided, so it was dishonest to talk of Indira going to politics, but in that political situation Indira Gandhi created _ bus Were the only ones.
In this way, like any other girl, Indira studied, after completing E, got married and settled in the house and got busy with her children. Till then time changed and Nehru became Prime Minister. This was a decisive turn in Indira Gandhi’s life too. Being the only daughter, she also stayed with her to take care of the widowed father. Now Indiraji was also at the center of politics and not a decisive role, but she had already come in a supporting role. At this turn it has been decided that now Indira Gandhi also wants to do politics. Indira Gandhi was a little monopoly against Nehru ji’s temperament. In 1959, she had also expressed this by demolishing the Kerala government.
In the time of Bahrahal Nehru ji, Indira ji remained in a assistant role and after that, Shastriji became Prime Minister also did not give her a big role. Bhagya Indiraji was kind after Shastri ji’s death, when she became Prime Minister in 1966 with the help of Kamraj. Time was completely waisted to defeat them. The country was worse than the shortage of grains due to the war between China and Pakistan. There were other challenges. Opposition government had been formed in nine states and the talk was about the end of Congress. It is not necessary to mention all of them here, it is important that Indira ji did.
Just eight years after coming to power in 1966, Indira ji changed the country from a starving nation to a powerful nation by testing the atom bomb in 1974 Earlier in 1971, she had won the war with Pakistan and made Bangladesh. Indira ji had more success as well as after winning the 1971 general election she became the most powerful woman of the country, Congress also got Sanjivani and she again occupied the whole country.
At this time, Indira ji got the biggest challenge of her political life so far. The movement started in Gujarat in 1974 spread all over the country and at the same time a decision of the High Court invalidated the election of Indira ji. On this occasion, Jai Prakash Narayan started a movement against Indira Gandhi. RSS, who was against Congress since 1947, also saw the opportunity in this chaos and gave full support to Jai Prakash ji, now in a way, the command of Jai Prakash Ji’s movement was in the hands of RSS. Indiraji believed that the policies of RSS are deadly for the country, so he crushed the protest by imposing an emergency. Although Indira ji lost the 1977 election. Janata Party formed the government but in 1980, Indira ji won the election again and became the Prime Minister.
Being a creator of politics, Indira ji recognized the RSS standing under the guise of Jai Prakash ji and stopped her from reaching power for almost 20 years. But even Indira ji did not have control over fate. Sanjay Gandhi and then Indira ji’s death made Rajiv Gandhi the Prime Minister. Narsingh Rao got command on his untimely cheek. He gave new direction to the country but for many reasons Congress could not do anything for the organization. Now the organization was broken, whatever it was, Sonia Gandhi handled it. Sonia was alert with heritage politics, she knew her weaknesses, so she used to discuss special thoughts on every important issue. Here the anti-Congress people started to believe that the days of the party are over. Some of her negligence, some of Indira ji’s legacy and some of Sonia Gandhi’s hard work, Delhi is again of Congress.
Sonia brought Manmohan Singh who is aware of her shortcomings and for a decade the country saw a new period of prosperity.
But in the same period, the anti-Congress, especially the RSS and the BJP lost their patience and they made a plan to remove the Congress from the moves like 1975 Disgrace, rumors and conspiracy were used on a large scale. Along with, there was an atmosphere against Manmohan Singh’s ten-year-old government, Sonia Gandhi did not have the understanding of how to deal with all these like Indira ji. In spite of good work in the result, Congress remained in the field and BJP took over the power of Delhi. At the same time, the Congress leaders had also become so convenient that they couldn’t stop the incoming danger. Talk of genealogy regime or holding him responsible for something is now dishonest because everyone is the same now.
Stop at this place and think for a while. Since 1967 till today, many times it felt that Congress is over, but every time it came back alive from its ashes. This is the reason for the party to be born from the freedom struggle, this is the reason that it does not have any alliance plan for the development of the country, and also the union spread across the country, no matter how weak it is in today’s date. At the same time, Congress is more fortunate in one case, every time opposition gives Sanjivani to Congress with their bad governance. No other party from Congress has learned till date that if they get power, how to run it? Instead of his successful operations on getting power, his emphasis is more on abusing Congress. And that’s the major reason for his downfall.
Let the blind devotees go. Despite its hundred years of history, RSS has not been able to become a country wide organization, while Congress is going through its worst periods everywhere. Despite all its clever moves, Modi government is flopping. It is difficult to say what will be the future of Congress, but it is certain that with the departure of Modi government, many things will happen which have not happened yet and the hopes are also visible.

श्रीमती गांधी और श्रीमती गांधी का फर्क

अनेहस शाश्वत
श्रीमती इंदिरा गांधी और श्रीमती सोनिया गांधी मे कई समानता हैं। दोनों एक ही वंश की हैं, दोनों ने लम्बे समय तक सत्ता सुख भोगा और अपवाद जाने दें तो कुल मिला कर कानून सम्मत शासन ही किया। और सबसे बड़ी बात भारत को सम्पन्न बनाने मे दोनों का ही खासा योगदान है। लेकिन एक बड़ा फर्क भी है दोनों मे। इंदिरा गांधी पूरी ट्रेनिंग के बाद सायास राजनीति मे आई और सोनिया को समय ने राजनीति की राह दिखा दी। नेहरू जी ने अपनी एकमात्र कन्या इंदिरा के पालन पोषण मे खासी दिलचस्पी ली, लेकिन उस समय नेहरू का ही भविष्य तय नही था तो इंदिरा के राजनीति मे जाने की बात करना ही बेमानी था, लेकिन उस राजनैतिक महौल मे इंदिरा गांधी रच _ बस तो रही ही थीं।
ऐसे मे किसी भी दूसरी लड़की की तरह इंदिरा ने पढ़ा ई पूरी करने के बाद शादी की और घर बसाया और अपने बच्चों मे व्यस्त हो गई। तब तक समय बदल गया और नेहरू प्रधानमंत्री बन गए। यह इंदिरा गांधी के जीवन मे भी निर्णयक मोड रहा। एकमात्र कन्या होने के नाते विधुर पिता की देखभाल के लिए वो भी उन के साथ ही रहने लगी। अब इंदिराजी भी राजनीति के केन्द्र मे थीं और निर्णायक नही लेकिन सहायक भूमिका मे तो आ ही गई थीं। इसी मोड पर यह तय हो गया की अब इंदिरा गांधी को भी राजनीति ही करनी है। नेहरू जी के मिजाज के विप रीत इंदिरा गांधी थोड़ा एकाधिकार वादी थीं। १९५९ मे केरल की सरकार गिरा कर उन्होंने यह जता भी दिया था।
बहरहाल नेहरू जी के काल मे इंदिरा जी सहायक भूमिका मे ही रही और उनके बाद प्रधानमंत्री बने शास्त्रीजी ने भी उन्हें कोई बड़ी भूमिका नही दी। भाग्य इंदिराजी पर मेहरबान हुआ शास्त्री जी की मौत के बाद, जब कामराज की मदद से १९६६ मे वो प्रधानमंत्री बनी। समय पूरी तरह से उनको परास्त करने के लिए कमर कसे हुए था। चीन और पाक से हुए युद्ध से बदहाल देश अनाज की कमी से भी खस्ता हाल था। और भी चुनौतियां थीं। नौ राज्यों मे विपक्ष की सरकार बन चुकी थी और कांग्रेस के खत्म होने की बात होने लगी थी। उन सबका ज़िक्र यहाँ जरूरी नही, जरूरी वो है जो इंदिरा जी ने किया।
१९६६ मे सत्ता मे आने के मात्र आठ साल बाद १९७४ मे ऐटम बम का परीक्षण कर इंदिरा जी ने देश को एक भुखमरे राष्ट्र से शक्तिशाली राष्ट्र मे बदल दिया। इस के पहले १९७१ मे वो पाक से लड़ाई जीत कर बंगला देश बनवा चुकी थीं। इंदिरा जी की और भी तमाम सफलता रही साथ ही १९७१ का आम चुनाव जीत कर वो देश की सबसे शक्तिशाली महिला बन गई, कांग्रेस को भी संजीवनी मिली और वो फिर से पूरे देश पर काबिज हो गई।
इसी समय इंदिरा जी को अपने तब तक के राजनैतिक जीवन की सबसे बडी चुनौती मिली। १९७४ मे गुजरात से शुरू हुआ आन्दोलन पूरे देश मे फैल गया और उसी समय हाई कोर्ट के एक फैसले ने इंदिरा जी के चुनाव को अमान्य कर दिया। इसी मौक़े पर जय प्रकाश नारायण ने इंदिरा गांधी के विरोध मे आंदोलन शुरू किया। आर एस एस जो १९४७ से ही कांग्रेस के विरोध मे था, उसने भी इस अराजकता मे अवसर देखा और जय प्रकाश जी को पूरा सहयोग दिया, अब एक तरह से जय प्रकाश जी के आन्दोलन की कमान आर एस एस के हाथों मे थी। इंदिराजी का मानना था की आर एस एस की नीतियां देश के लिए घातक हैं , इसलिए उन्होंने आपात काल लगा कर विरोध को कुचल दिया। हालांकि १९७७ का चुनाव इंदिरा जी हार गई। जनता पार्टी की सरकार बनी लेकिन १९८० मे ही इंदिरा जी फिर से चुनाव जीत कर प्रधानमंत्री बनी।
राजनीति मे रची बसी होने के नाते इंदिरा जी, जय प्रकाश जी की आड़ मे खड़े आर एस एस को पहचान गई और उसे करीब २० साल तक और देश की सत्ता तक पहुंचने से रोक दिया। लेकिन भाग्य पर इंदिरा जी का भी बस नही था। संजय गांधी और फिर खुद इंदिरा जी की मौत ने राजीव गांधी को प्रधानमंत्री बना दिया। उनके भी असमय काल के गाल मे जाने पर कमान नरसिंह राव को मिली। उन्होंने देश को नई दिशा तो दी लेकिन कई कारणों से कांग्रेस संगठन के लिए कुछ नही कर पाए। अब टूटा फूटा जैसा भी था संगठन सोनिया गांधी ने संभाला। विरासत मे मिली राजनीति से सोनिया सतर्क थी, उन्हे अपनी कमजोरी पता थी इसलिए हर महत्व पूर्ण मसले पर वे खासा विचार विमर्श करती थीं। इधर कांग्रेस विरोधी मानने लगे थे की पार्टी के दिन पूरे हुए। कुछ उनकी गफ् लत, कुछ इंदिरा जी की विरासत और कुछ सोनिया गांधी की मेहनत, दिल्ली फिर से कांग्रेस की हुई।
अपनी कमियो से वाकिफ सोनिया , मनमोहन सिंह को ले आई और एक दशक तक देश ने सम्पन्नता का नया कालखंड देखा।
लेकिन इसी कालखंड मे कांग्रेस विरोधी खास तौर से आर एस एस और भाजपा अपना धीरज खो बैठे और उन्होंने १९७५ जैसी चालों से कांग्रेस को हटाने की यो जना बनाई। बदनामी, अफवाह और षड्यंत्र का बड़े पैमाने पर इस्तेमाल हुआ। साथ मे मनमोहन सिंह की दस साल की सरकार के खिलाफ भी वातावरण था, इन सबसे कैसे निपटा जाये, इसकी सूझ बूझ इंदिरा जी की तरह सोनिया गांधी के पास नही थी। नतीजे मे बेहतर काम के बावजूद कांग्रेस खेत रही और भाजपा साकार दिल्ली की सत्ता पर काबिज हुई। साथ ही कांग्रेस के नेता भी इतने सुविधा भोगी हो गए थे की आसन्न खतरे को नही भांप पाए। वंशानुगत शासन की बात या उसे किसी चीज के लिए ज़िम्मे दार ठहराने की बात अब बेमानी है क्यों की सभी अब वैसे ही हैं।
इसी जगह पर रुक कर थोड़ा सोचे १९६७ से आज तक कई बार लगा की अब कांग्रेस खत्म , लेकिन हर बार वह अपनी राख से फिर से जीवित हुई। इसका कारण पार्टी का जन्म स्वतंत्रता संग्राम से होना है, यही वजह है की देश के विकास के लिए इसके पास स मग्र योज ना है साथ ही एक देश भर मे फैला संग ठन भी, भले ही वो आज की तारीख मे कितना कमजोर हो। साथ ही कांग्रेस एक मामले मे और भाग्य शाली है, हर बार विपक्ष अपने बुरे शासन से कांग्रेस को संजीवनी देता है। कांग्रेस से इतर कोई दल आज तक ये नही सीख पाया है की सत्ता मिल जाय तो उसे चलाए कैसे? सत्ता मिलने पर उसके सफल संचालन के बजाय उनका ज़ोर कांग्रेस को गाली देने पर ज्यादा होता है। और यही उसके पतन की बड़ी वजह बनता है।
अंध भक्तों को जाने दीजिए तो अपने सौ साल के इतिहास के बावजूद आर एस एस देश व्यापी संगठन नही बन पाया है जबकि अपने सबसे बुरे दौर से गुजर रही कांग्रेस हर जगह है। अपनी सारी चालाक चालों के बावजूद मोदी सरकार फ्लॉप हो रही है। कांग्रेस का भविष्य क्या होगा ये कहना तो अभी मुश्किल है, लेकिन यह तय है की मोदी सरकार के जाने के साथ ही बहुत कुछ ऐसा होगा जो अभी तक नही हुआ और जिसके आसार दिखने भी लगे हैं।

You might also like
Comments
Loading...

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More